एक ऐसा चिट्ठाकार जिसके द्वारा एक वर्ष पूर्व एक चिटठा देशनामा…शुरू किया गया इस आशय के साथ कि देश का कोई धर्म नहीं, कोई जात नहीं, कोई नस्ल नहीं तो फिर यहां रहने वाले किसी पहचान के दायरे में क्यों बांधे जाए ।

आजकल जब सारा मीडिया स्तरहीन सामग्री से भरा पड़ा है तो ऐसे में विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाना और तर्कपूर्ण वक्तव्यों के माध्यम से प्रस्तुत करना इस ब्लॉग के प्रति अनायास हीं सम्मान का भाव पनपता है ।महज एक वर्ष की अल्प आयु वाला यह ब्लॉग चिट्ठाजगत की सक्रियता में सम्मानित स्थान पर है और इसमें अभीतक महत्वपूर्ण मुद्दों से परिपूर्ण कतिपय पोस्ट लिखे जा चुके हैं जो इस चिट्ठे के समर्पण को परिलक्षित करता है ।
इस ब्लॉग के यशश्वी संचालक खुशदीप सहगल की सहभागिता अनायास ही सबको अचंभित करती रही है. हमेशा चर्चा में रहने वाले इस चर्चित उदीयमान ब्लोगर को ब्लोगोत्सव की टीम ने वर्ष के चर्चित उदीयमान ब्लोगर का अलंकरण देते हुए सम्मानित करने का निर्णय लिया है!

श्री खुशदीप सहगल के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ किलिक करें

20 comments:

  1. बहुत संतुलित व्‍यक्तित्‍व है खुशदीप जी का .. जो उनके लेखन में खास झलकता है .. उन्‍हें बहुत बहुत बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह वाह
    खुशदीप भाई का तह-ए-दिल से स्वागत करते हैं।
    ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं।
    घणी घणी राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुशदीप जी को बहुत-बहुत बधाईयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुशदीप भाई को बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह...बहुत बहुत बधाई खुशदीप जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह...बहुत बहुत बधाई खुशदीप जी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुशदीप भाई को ही खुशदीप सम्मान -या यारब ,कितनी खुशी की बात है .बधायी !

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे खुशी मिली इतनी कि मन में न समाए,
    पलक बंद कर लूं कहीं छलक ही न जाए...

    आप सब के प्यार को समर्पित है ये गीत...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  10. @डॉ अरविंद मिश्रा जी,

    मुझ नाचीज़ को इतना मान देने के लिए आभार...डॉक्टर साहब, शायद आपने नोट किया हो, इस सम्मान में श्रेष्ठ शब्द कहीं नहीं जुड़ा है...सिर्फ चर्चित उदीयमान ब्लॉगर है...जिस कथित चिढ़ की आप बात कर रहे हैं, वो मुझे श्रेष्ठ शब्द से ही रही है...ये मेरी अपनी राय है कि इंसानों के बीच कोई किसी से श्रेष्ठ हो ही नहीं सकता...और मैं क्यों तैयार हुआ, इसके पीछे भी एक रोचक कहानी है...जिसे मैं और रवींद्र भाई ही जानते हैं...लेकिन अब मुझे लगता है कि वो कहानी साफ़ कर ही देनी चाहिए...शायद आज इसी पर पोस्ट लिखूं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुशदीप भाई को बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशदीप जी को तहे दिल से मुबारकबाद, बहुत-बहुत बधाई! आपके लिखने की तो अदा ही निराली है........

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top