जब -
बीमार अस्पताल की
बीमार खाट पर पडी

मेरी बूढ़ी बीमार माँ
खांस रही थी बेतहाशा

तब महसूस रहा था मैं
कि, कैसे -
मौत से जूझती है एक आम औरत ।


कल की हीं तो बात है
जब लिपटते हुये माँ से
मैंने कहा था , कि -
माँ, घबराओ नही ठीक हो जाएगा ..... ।

सुनकर चौंक गयी माँ एकवारगी
बहने लगे लोर बेतरतीब
सन्न हों गया माथा
और, माँ के थरथराते होंठों से
फूट पडे ये शब्द -
"क्या ठीक हो जाएगा बेटा !
यह अस्पताल ,
यह डॉक्टर ,
या फिर मेरा दर्द ........?
() रवीन्द्र प्रभात

10 comments:

  1. भावपूर्ण अभिव्यक्ति....वाकई....कुछ ठीक होने वाला नहीं...ये दुनिया है ऐसे ही चलेगी
    http://veenakesur.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विना जी,
    यही सच है कि हमारे देश में सब कुछ राम-भरोसे ही चल रहा है , शासन-प्रशासन अथवा अस्पताल ही क्यों न हो ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. सचमुच मार्मिक है यह अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अज के हालात को देख कर तो यही लगता है कि ये दर्द और बढेगा
    बहुत गहरे भाव लिये रचना के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही गहराई लिये प्रत्‍येक शब्‍द, सुन्‍दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत गहरे भाव लिये अभिव्यक्ति के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top