ग़ज़ल
आज अपने आप में क्या हो गया है आदमी ,
जागने का वक़्त है तो सो गया है आदमी ।

भूख की दहलीज़ पर जगता रहा जो रात- दिन ,
चंद रोटी खोजने में खो गया है आदमी ।

यह हमारा मुल्क है या स्वार्थ का बाज़ार है ,
सेठियों के हाथ गिरवी हो गया है आदमी ।

पेट की थी आग या कि बोझ बस्तों का उसे ,
छोड़ करके पाठशाला जो गया है आदमी ।

झांकता है कौन मन के राम को रहमान को-
मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी ।

कुर्सियों की होड़ में बस दौड़ने के बास्ते ,
नफ़रतों का बीज आकर बो गया है आदमी ।

() रवीन्द्र प्रभात

12 comments:

  1. पेट की थी आग या कि बोझ बस्तों का उसे ,
    छोड़ करके पाठशाला जो गया है आदमी ।

    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पेट की थी आग या कि बोझ बस्तों का उसे ,
    छोड़ करके पाठशाला जो गया है आदमी ।

    झांकता है कौन मन के राम को रहमान को-
    मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी ।

    कुर्सियों की होड़ में बस दौड़ने के बास्ते ,
    नफ़रतों का बीज आकर बो गया है आदमी ।

    गजल में शब्द का सटीक प्रयोग हुआ है , पढ़कर मन प्रसन्न हो गया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. झांकता है कौन मन के राम को रहमान को-
    मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी ।

    कुर्सियों की होड़ में बस दौड़ने के बास्ते ,
    नफ़रतों का बीज आकर बो गया है आदमी ।

    ......bahut hi achhi samyik rachna

    उत्तर देंहटाएं
  4. झांकता है कौन मन के राम को रहमान को-
    मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी ।

    कुर्सियों की होड़ में बस दौड़ने के बास्ते ,
    नफ़रतों का बीज आकर बो गया है आदमी ।

    बहुत अच्छी गज़ल ...सच ही आदमी खो गया है इंसानियत खो गयी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुर्सियों की होड़ में बस दौड़ने के बास्ते ,
    नफ़रतों का बीज आकर बो गया है आदमी ।
    सभी शेर बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्दा ग़ज़ल...........

    सराहनीय पोस्ट !

    उत्तर देंहटाएं
  7. VAAH, SAMAYIK GHAZAL.BADHAI. KAASH SARE LEKHAK ISI TARAH KI RACHANAYE KARATE RAHE.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top