ग़ज़ल:

कुछ सूखे जलपान हमारी बस्ती में
सुपली भर है धान हमारी बस्ती में ।

हवा देखकर आज यहाँ शर्मिन्दा है-
टूटे छप्पर-छान हमारी बस्ती में ।

पुतले रोज जलाते लेकिन डरते भी -
रावण से भगवान हमारी बस्ती में ।

फैशन में गुमराह हुए ये बच्चे भी-
मुंह में दाबे पान हमारी बस्ती में ।

महिलाओं पर जोर-जुल्म दिखलाकर के -
बनती पुलिस महान हमारी बस्ती में ।

क्या-क्या जुल्म न ढाए खादी वालों ने-
सस्ती कितनी जान हमारी बस्ती में ।

मुंह में राम बगल में छुरी जो रखते वे-
पाते हैं सम्मान हमारी बस्ती में ।

सैर-सपाटे को आये थे जो प्रभात-
उनकी बड़ी दूकान हमारी बस्ती में ।

() रवीन्द्र प्रभात

11 comments:

  1. ग़ज़ल का एक-एक शेर सच्चाई बयान कर रहा है ....जहां सच्चाई है वहीं सृजन के मायने ! आज ही आपके द्वारा एल बी ए पर यशवंत सिंह की माताजी के ऊपर पुलिसिया जुल्म की खबर पढ़ी और आपने उसपर पूरी की पूरी ग़ज़ल ही कह दिया , अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. ग़ज़ल हो तो ऐसी कि पढ़ने के बाद आह न दबा सको , क्या बात है-
    मुंह में राम बगल में छुरी जो रखते वे-
    पाते हैं सम्मान हमारी बस्ती में ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई रविन्द्र जी हम तो आपके इस गजल को वर्धा में सुनकर उसे सुपरहिट घोषित कर चुके हैं ...शानदार है आपकी यह गजल ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सैर सपाटे को आए थे जो प्रभात,
    उनकी बड़ी दुकान हमारी बस्ती में।

    क्या जबरदस्त कटाक्ष किया है इन पंक्तियों में ...वाह बहुत खूब...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सटीक बात कही है आपने........

    पुतले रोज जलाते लेकिन डरते भी -
    रावण से भगवान हमारी बस्ती में ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही तो हमारी भी बस्ती है...

    वाह!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top