(ग़ज़ल )

शर्म की पोशाक को वह छोड़ करके आ गया
वेबसी की एक चादर ओढ़ करके आ गया ।

रक्त पीकर वह मनुज का कह रहा है शान से-
रहगुजर में दो दिलों को जोड़ करके आ गया ।


गा रहे हैं गीत फिर भी साज से हैं बेखबर-
राग दरवारी शहर में शोर करके आ गया।

लोग कहते हैं मुकम्मल आज वह इंसान जो-
आईना से पत्थरों को तोड़ करके आ गया ।

कह रहा प्रभात से खुद को चमन का रहनुमा-
बाग़ से कच्ची कली जो तोड़ करके आ गया ।

() रवीन्द्र प्रभात

8 comments:

  1. गा रहे हैं गीत फिर भी साज से हैं बेखबर-
    राग दरवारी शहर में शोर करके आ गया।

    लोग कहते हैं मुकम्मल आज वह इंसान जो-
    आईना से पत्थरों को तोड़ करके आ गया ।
    प्रभात जी हमेशा की तरह लाजवाब गज़ल। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और समसामयिक ग़ज़ल के लिए पुन: बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सचमुच हमेशा की तरह लाजवाब है यह ग़ज़ल भी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सचमुच हमेशा की तरह लाजवाब है यह ग़ज़ल भी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. गा रहे हैं गीत फिर भी साज से हैं बेखबर-
    राग दरवारी शहर में शोर करके आ गया।
    bemisal

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top