जनसंदेशबचपन में दो पंक्तियाँ पढ़ी थी, कि - " लीक-लीक गाडी चले, लीक ही चले कपूत ! लीक छोड़ तीनों चले, शायर, सिंह, सपूत !!"

हर व्यक्ति का जीवन अपने आप में स्वतंत्र है, चिंतन स्वतंत्र है, लक्ष्य भी स्वतंत्र होता है ! यह आवश्यक नहीं कि जिस प्रकार का जीवन पिछली पीढ़ी ने जिया, अगली पीढ़ी भी उसका अनुसरण करे ही ! करे भी क्यों ? एक पिता ने दु:ख सुख पाकर अपने बच्चे को अच्छा पढ़ा लिखा दिया तो वह पिता से अच्छा जीवन क्यों न व्यतीत करे ? अनुभव उसके पास है ! पिता ने जहां जिस उद्यम  को पहुंचाया, वह तो पुत्र के लिए शुरुआत ही हुयी न  ! उसे विकसित तो होना ही है !


ऐसा कहना है लखनऊ से प्रकाशित हिंदी दैनिक जन सन्देश टाईम्स के मुख्य संपादक डा. सुभाष राय जी का जिन्होंने वर्षों से चली आ रही पत्रकारिता के मिथक को नए-नए प्रयोग करके केवल तोड़ा ही नहीं है, अपितु ब्लॉग की महत्ता को अपने अखबार के माध्यम से प्रतिष्ठापित करने का साहस भी किया है !


इस सन्दर्भ में मैंने साहस शब्द का प्रयोग इसलिए किया कि ऐसे समय में जब ब्लॉग पर रचित साहित्य की प्रासंगिकता पर व्यापक विमर्श हो रहे हों और परस्पर विवादित टिप्पणियाँ आ रही हो एक राष्ट्रीय स्तर के अखबार पर ब्लोगर्स का दब दबा यह साबित कर रहा है कि हमारी अहमियत पांचवें स्तंभ के रूप में बनती जा रही है या यूँ कहें बन चुकी है तो शायद न कोई अतिश्योक्ति होगी और न शक की गुंजाईश ही !


यह अखबार अपने प्रारंभिक काल से ही प्रत्येक बुधवार को " ब्लोगवाणी" स्तंभ दे रहा है, जिसके अंतर्गत श्री  जाकिर अली रजनीश के द्वारा हिंदी के वेहतर ब्लॉग को सामने लाया जाता है ! "उलटवांसी" स्तंभ के अंतर्गत हिंदी के लोकप्रिय ब्लॉग व्यंग्यकार की समसामयिक व्यंग्य रचनाओं को प्रमुखता के साथ प्रत्येक दिन प्रकाशित किया जाता है, इस स्तंभ के अंतर्गत अब तक श्री प्रेम जन्मेजय, अविनाश वाचस्पति, प्रमोद तांबट और मुझे स्थान दिया जा चुका है ! 

आज इस अखबार में उलटवांसी के अंतर्गत मेरा व्यंग्य " तोता राम जी  की चिंता" प्रकाशित हुयी है !


प्रत्येक रविवार को एक पृष्ठ "ब्लॉग लोक" करके दिया जा रहा है, जिसमें हिंदी के कुछ महत्वपूर्ण ब्लॉग पोस्ट को संग्रहित करते हुए प्रकाशित किये जा रहे हैं, इस रविवार को इस पृष्ठ पर श्री जी. के. अवधिया  के ब्लॉग " धान के देश में " से "चलिए साहब, थोड़ा पत्नी विमर्श हो जाए "



 ज्ञान दत्त पाण्डेय   के ब्लॉग "मानसिक हलचल " से "पहाड़ों-पठारों की नहीं सरपट वनों की सैर" पी. सी. रामपुरिया  के ब्लॉग "ताऊ डोट इन" से " मिस समीरा रेड्डी की स्लिम एवं जीरो साईज उपन्यासिका "तथा श्री दिनेश राय द्विवेदी के ब्लॉग "अनवरत" से " वेहतर लेखन के सूत्रों की तलाश " को स्थान दिया गया है जो ब्लॉग के प्रति इस अखबार और अखबार के संपादक मंडल की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित कर रहा है !









पिछले  रविवार से इस अखबार में मेरा एक नियमित साप्ताहिक स्तंभ " चौबे जी की चौपाल" शुरू हुआ है, जिसके अंतर्गत आप मुझे समसामयिक विषयों पर प्रत्येक रविवार को अलग-अलग रूप में पायेंगे !

क्यों है न यह ब्लोगिंग के सृजन  को महसूसता एक अखबार ?

() () () 

18 comments:

  1. नमस्कार !
    ब्लॉग और अखबार का दोनों का अपना अपनए महत्व है अगर दोनों को आपस में नाता रख जाए तो दोनों का महत्व और भी ख़ास हो जाता है . धीरे धीरे ब्लॉग्गिंग आम होती जा रही है . हमे कण ' जन सन्देश ' में स्थान कब प्राप्त हो स्वयं को गौरवित महसूस करते है . ये प्रतीक्षा है . खैर .. बहुत बहुत बधाई .
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वास्तव में यह एक बड़ी बात है की चौथे स्तंभ यानी बड़े भाई के द्वारा पांचवें स्तंभ यानी छोटे भाई को आयामित किया जा रहा है, निश्चित रूप से प्रिंट मीडिया का यह नया रूप सफल होगा और आने वाले समय में ब्लोगिंग से जुड़ना एक सुखद अनुभूतिपरक क्षण होगा ! अखबार के संपादन मंडल को मेरी असीम शुभकामनाएं और आपको नियमित स्तंभकार के रूप में नयी सृजन यात्रा की शुरुआत हेतु बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुशी हुई यह समाचार पढकर .अनिकनेक शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लागरों में बहुत संभावनाएँ हैं। यह बात यह समाचार पत्र साबित कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लागरों में बहुत संभावनाएँ हैं और अभी बड़े बड़े समाचार पत्रों को भी आगे आना है

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह स्वीकारोक्ति है पंचम स्तम्भ की ......चतुर्थ स्तम्भ के द्वारा ........रवीन्द्र जी ! बधाई आपको ...और उन ब्लोगर्स को भी जो चतुर्थ स्तम्भ में स्वीकार किये गए हैं........पर थोड़ी सावधानी की आवश्यकता है .......ध्यान रखना होगा कि पंचम से चतुर्थ में पूर्ण रूपांतरण न हो जाय.

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह एक अच्छी खबर है और ब्लोगिंग विधा के लिए वेहतर संकेत भी , आपके दोनों व्यग्य उच्च कोटि के हैं, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लोगरों के लिए बढ़िया समाचार है, इससे हिंदी ब्लोगिंग का विस्तार होगा

    क्या सच में तुम हो???---मिथिलेश


    यूपी खबर

    न्यूज़ व्यूज और भारतीय लेखकों का मंच

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सकारात्मक है यह पोस्ट ...... अच्छा लगा जानकर

    उत्तर देंहटाएं
  10. gender bias is showing till now not a single blog by a woman has been highlighted

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने को सक्रिय ब्‍लॉगर माना है, आपकी पोस्‍ट भी देखता रहता हूं, उपयोगी होती हैं. अपने ब्‍लॉग का जिक्र अभी तक तो यहां नहीं देख पाया.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आजकल ब्लागिंग की ही तो धूम है. अख़बारों की भी चांदी है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुखद खबर है, आखिर संभावनाओं की तलाश करता हुआ कोई तो मिला, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top