'' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौक़ से डूबें जिसे भी डूबना है '' दुष्यंत ने आपातकाल के दौरान ये पंक्तियाँ कही थी , तब शायद उन्हें भी यह एहसास नहीं रहा होगा कि आनेवाला समय और ज्यादा भयावह होगा भारतीयों के लिए ......!

 भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रसिद्द सामाजिक कार्यकर्त्ता अन्ना का आज  से  आमरण  अनशन  शुरू  हो  चुका  है  .......आज़ादी के बाद पहली बार भ्रष्टाचार को लेकर इतने बड़े स्तर पर कोई प्रयास किया जा रहा है. इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में  मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ ....!


 आज एक दिन का उपवास रखकर मैं भी समर्थन कर रहा हूँ इस पहल का  ... यदि आप दिल्ली में हैं तो अवश्य शामिल हों (जंतर मंतर )अनशन स्थल पर अन्ना हजारे के साथ और यदि आप दिल्ली के बाहर हैं तो कम से कम एक दिन का उपवास रखकर  पूरी सामूहिकता के साथ इस पहल का समर्थन अवश्य करें !  

......ये रात सन्नाटा बुनेगी इसलिए -
कुछ  सुबह, कुछ दोपहर की बात हो !

16 comments:

  1. इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ ....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई रवीन्द्र प्रभात जी!
    मैं दिल्ली में तो नहीं हूँ!
    मगर पूरी तरह से अन्ना हजारे जी के इस अभियान का समर्थन करता हूँ और भावनात्मकरूप से उनके साथ हूँ!
    --
    आपाक आभारी हूँ कि आपने सुप्त चेतना को जगाने का महान कार्य किया है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ ....!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ ....!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय रवीन्द्र प्रभात जी
    नमस्कार !
    इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !
    माँ दुर्गा आपकी सभी मंगल कामनाएं पूर्ण करें

    उत्तर देंहटाएं
  7. धन्यवाद रविन्द्र प्रभात जी...ये देश आपके आजादी की इस दूसरी लड़ाई में आपके इस हार्दिक समर्थन को याद रखेगा..

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस पवित्र सामूहिक महा अभियान में मैं भी पूरी भावनात्मकता के साथ शामिल हूँ .... पर साथ साथ यह भी कहना चाहता हूँ ... जो अमर शहीद ऐ आज़म सरदार भगत सिंह जी ने कहा था ...

    ' बहरों को सुनाने के लिए धमाके की जरुरत होती है !! '

    यह पहल तो बढ़िया है ... जरुरत है इसको एक धमाके की शक्ल देने की ...

    इंक़लाब जिंदाबाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावात्मक रूप से हम भी शामिल हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं भी शामिल हूँ

    रविन्द्र जी आपको जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीय प्रभात जी! इश्वर आपको उतम स्वास्थ्य, दीर्घ आयु तथा सुख समृद्धि प्रदान करें यही हमारी आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. रविन्द्र जी,
    जन्मदिन को नए मायने देने का शुक्रिया...

    अपनी आज़ादी को हर्गिज़ हम मिटा सकते नहीं,
    सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं...

    जिस फील्ड में भी आप हैं, जो कुछ आप कर सकते हैं, वहीं से शुरुआत कीजिए...बूंद-बूंद से ही सागर बनता है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं भी शामिल हूँ इस पवित्र अभियान में । कामना है इस अभियान कि सफलता कि।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी बात से सहमत ... इस अग्नि का जलाए रखना होगा ... कहीं देर न हो जाए ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top