भावनाओं की अपनी धुन, अपनी कशिश होती है जिसके आगे खुदा भी रुक जाता है और मैं तो साथ रहता ही हूँ , रश्मि की बाहें गहे ! ये रश्मि आज गोवा घूमकर आई है (यूँ तो घूमी नहीं है , ब्लॉग के जरिये बिना टिकट सबसे मिल आती है और सौगात भी लाती है....... कभी कुछ नज़्म, कुछ ग़ज़ल.... अच्छा लगता है मुझे भी


काँटा
____________

काँटा हूं मैं कि मुझ में बहुत तेज़ धार है
लेकिन मुझे भी सब की तरह गुल से प्यार है

शोहरह है इश्क़ का गुल ओ बुलबुल के चार सिम्त
क्या ख़ार सिर्फ़ फूल का इक पहरेदार है ?

क़िस्मत में गुल के इज़्ज़त ओ शोहरत हैं रात -दिन
काँटा सभी की नज़रों में हर लम्हा ख़्वार है

जब हाथ कोई दामन ए गुल की तरफ़ बढ़े
ये ख़ार ही तो तोड़ता उस का ख़ुमार है

गुल है मज़ार और शिवाले की ज़ेब ओ ज़ैन
उस के लिये मगर यही काँटा हिसार है

किस से कहे वो दर्द जो उस दिल में है नेहां
काँटे की हर ख़ुशी तो गुलों पर निसार है

______________________________________

शोहरह= शोहरत ; ख़ार = काँटा ; ख़्वार = बेइज़्ज़त
ख़ुमार = नशा ; शिवाला =मंदिर ;ज़ेब ओ ज़ैन =शोभा
हिसार = सुरक्षा घेरा (चार दीवारी)
_______________________________________
___________________________________________

ग़ज़ल
___________

कैसा ये ख़ौफ़ अब मेरी तनहाइयों में है
दिलदोज़ गीत आज की शहनाइयों में है

ये देख कर यक़ीन मेरा डगमगा गया
इक दोस्त भी मेरा इन्हीं बलवाइयों में है

दहशतगरी को जुर्रत ओ हिम्मत से मात दो
हम सब की जीत ख़ौफ़ की पस्पाइयों में है

क्या बात है लिबास की ,,किरदार शक़ हुए
शोहरत भी उन की आज तो रुस्वाइयों में है

शर्मिंदगी तुम्हारी न मुझ तक पहुंच सकी
लाश मेरी ज़मीन की गहराइयों में है

जब झूठ बोलता हूं तो बेचैन रहता हूं
हां ये सुकून ए क़ल्ब तो सच्चाइयो में है
____________________________________

दिलदोज़ = दिल पर असर करने वाला ; जुर्रत =हिम्मत
पस्पाई = दमन ; शक़ = फटा हुआ ;रुस्वाई = बदनामी
क़ल्ब = दिल
_______________________________________
इस्मत जैदी 
http://www.ismatzaidi.blogspot.com/



परिकल्पना ब्लॉगोत्सव में आज :

vandanaji

सीधी बात वन्दना गुप्ता से


“ज़ख्म फूलों ने दिए ..!!, जिंदगी एक खामोश सफ़र, एवं एक प्रयास  ब्लॉग की स्वामिनी गृहणी श्रीमती...
lalitSHARMA3

लोकशाही बीमार पड़ी जनरल वार्ड में : ललित शर्मा


सरकार की योजनायें पहले फाईलों में चलती थी अब कार्डों में चल रही है, एक आदमी को जीना है तो पता नहीं...
FEMME_~1

भ्रम और नवजीवन


हकीकत से रूबरू हर रोज होता हूँ वास्तविकता का बोध हमेशा कराया जाता हैं दुनिया के लिहाज से बड़ा...
images

सूखा वृक्ष


सूखा वृक्ष हरे भरे घने झुरमुटों के बीच गर्व से झांकता , एक सूखा वृक्ष | जो अपनों से , केवल तिरस्कार...
contentwriter

डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक” के गीत


।। कुछ कीट निकम्मे।। प्रथम-दूसरे और तीसरे, चौथे और पाँचवे खम्बे। सबको कुतर रहे भीतर घुस, घुन बनकर...
225857_209874795710340_100000634634771_672566_2019001_n

दुखों की पोटली


निकल पड़ी थी अनजान शहर में , अनजान चेहरों के बीच , कोई भी तो नहीं था जिसे पहचान सकूँ , कुछ विस्मय...
img1110616021_1_2

एक पत्र भ्रष्टाचार बाबा के नाम


प्यारे भ्रष्टाचार बाबा सादर घूसस्ते ! आपके लिए एक दुःख भरा समाचार हैं. यही कि आपके विरुद्ध अन्ना...
sadhu01500mo6

अलख निरंजन


कहानी “अलख निरंजन!…बोल. ..बम…चिकी बम बम….अलख निरंजन….टूट जाएं तेरे सारे बंधन” कहकर बाबा...
upendra2

उपेन्द्र ‘ उपेन ‘ की दो लघुकथाएं


पहला साक्षात्कार अबोध शिशु की आँखों मे स्वप्निल संसार जन्म लेने लगा था. मुख मे दन्त क्या निकले...
Ravana

रावण का आत्ममंथन


आकाश मे अपने पूरे तेज के साथ भगवान भास्कर के उदय होते ही आर्यावर्त के दक्षिण मे स्थित सुवर्णमयी...


इसी के साथ आज कार्य संपन्न, फिर मिलते हैं कल, तबतक के लिए शुभ विदा !

11 comments:

  1. इसबार ब्लॉगोत्सव का रंग पिछले साल की तुलना में ज्यादा चढ़ा हुआ महसूस हो रहा है, रविन्द्र जी,आपका और आपकी टीम का बहुत-बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. इशमत जैदी जी की गज़लें बहुत उम्दा है, पढ़कर आनंद आ गया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कैसा ये ख़ौफ़ अब मेरी तनहाइयों में है
    दिलदोज़ गीत आज की शहनाइयों में है

    बहुत खूब कहा है आपने ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस्मत ज़ैदी जी की दोनों रचनाएँ बहुत पसंद आयीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब हाथ कोई दामन ए गुल की तरफ़ बढ़े
    ये ख़ार ही तो तोड़ता उस का ख़ुमार है

    क्या बात है! कांटे का क़द इन पंक्तियों ने दिखा दिया.

    जब झूठ बोलता हूं तो बेचैन रहता हूं
    हां ये सुकून ए क़ल्ब तो सच्चाइयो में है
    एकदम सच्ची बात. इस्मत मेरी पसंदीदा शाइरा हैं. उनकी नज़्मों या ग़ज़लों पर बहुत कुछ कहने की योग्यता नहीं रखती मैं.
    परिकल्पना को बधाई और शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस्मत जैदी जी की दोनों ग़ज़ल खुबसूरत हैं...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top