कलयुग का भविष्य-महर्षि वेदव्यास ।
(courtesy-Google images)

http://mktvfilms.blogspot.in/2011/03/blog-post_19.html

==========
प्रिय मित्रों,

उत्तर महाभारत महाग्रंथ में कलयुग के भविष्य के बारे में महर्षि वेदव्यास ने कुछ त्रुटिरहित कथन किए हैं ।

 आइएँ, आज के संदर्भ में, महर्षि वेदव्यास के उन सारे कथन की  यथार्थता जाँचने का प्रयास करें..!!

आप को सिर्फ इतना बताना है, आज के घोर कलयुग के  इस माहौल में, कौन सा  कथन सही-कौन सा ग़लत है ।

(तभी तो हम कलयुग के बारे में कितना जानते है, यह परखा जा सकता है..!!)

मिसाल के तौर पर यहाँ एक कथन का सही उत्तर दे दिया है ।

उदाहरण-

कलयुग के राजा सिर्फ अपनी ही रक्षा करेंगे, प्रजाजन की नहीं । (सही - ग़लत )

उत्तर - सही है ।

प्रजाजनों की रक्षा की जीन लोगों (राजा) पर ज़िम्मेदारी है वह सब खुद ब्लैक केट कमान्डॉ की सुरक्षा के बीच  सुरक्षित  हैं । जनता आतंकवाद का शिकार हो कर रोज़ मरती रहे, उनको कोई परवाह नहीं ।
 
=========

भविष्य कथन ।

=========

१. सभी धर्म के लोग एक साथ, एक जगह बैठ कर भोजन करेंगे । ( सही - ग़लत )

(हॉटेल्स-रेस्टोरन्ट्स का बढ़ता चलन?)

२. लोग बात-बात पर असत्य का सहारा लेंगे । ( सही - ग़लत )

(धोखा -मक्कारी के बढ़ते कोर्ट केस?)

३. स्त्री को बदइरादे से मित्र बनाकर उनका कहा मानेंगे । ( सही - ग़लत )

( वॅलेन्टाईन डे जैसे सिलिब्रेशन?)

४. राजा, प्रजा का धन लूटकर चोर कहलायेंगे । ( सही - ग़लत )

( परदेश की बैंकों में जमा काला धन?)

५. सग़ीर कन्या सोलह साल से पहले संतति प्राप्त करेंगी ।
धर्मगुरु धर्म विरुद्ध आचरण करके विधवा मिथुन द्वारा गुप्त संतति पैदा करेंगे ।  ( सही - ग़लत )

 (ढेर सारी ऍबॉर्शन क्लिनिक?)

६. ब्राह्मण यज्ञ और तप के फल बचेंगे । ( सही -ग़लत )

( बनावटी धर्म स्थान- आश्रम और शिक्षा का व्यापार?)

७. गायों को क़त्ल किया जाएगा । हिंसा बढ़ेगी । ( सही - ग़लत )

( गौरक्षा कानून का प्रावधान? )

८. लोग सात्विक, स्वास्थ्यवर्धक भोजन के स्थान पर तामसी-राजसी भोजन पसंद करेंगे । (सही - ग़लत )

( स्पाईसी वॅज-नॉन वॅज फास्टफूड का बढ़ता चलन?)

९. वर्षाॠतु में कभी बारिश कभी अकाल की स्थिति होगी  ।
लोग नदी-तालाब के पानी से खेती करेंगे । (सही - ग़लत )

( जंगलों का नाश, छोटे-बड़े  चेक डेम  का  निर्माण?)

१०. दरिद्र प्रजा भी, अल्प  धन जुटा कर धनवान होने का दिखावा करेगी । ( सही -ग़लत )

( औक़ात से ज्यादा, बैंक लोन पाकर समृद्ध होने का दिखावा?)

११. स्त्री-पुरुष, सच्चे सौंदर्य की जगह कृत्रिम रूप का गुणगान करेंगे । (सही - ग़लत )

( लॅडिज़ -जेन्ट्स के ब्यूटी पार्लर्स की भरमार?)

१२. लोग उधारी मांगने में शर्म महसूस नहीं करेंगे ।  सही जरुरत वाले को धुत्कारेंगे । ( सही - ग़लत )

(क्रेडिट कार्ड -डेबिट कार्ड का बढ़ता चलन?)

१३. खेत में बोये हुए बीज उगेंगे नहीं । खेत पैदावार कम होगी । (सही - ग़लत )

( महँगाई और किसानों की आत्महत्या के बढ़ते क़िस्से?)

१४. अग्नि-चोर और राजाओं के दंड से लोग पीड़ित होंगे । ( सही -ग़लत )

( जापान न्यू क्लियर जैसी आगजनी, चोरी - लूट और हत्या की बढती वारदातें, सरकारी  भ्रष्टाचार?)

१५.  परलोक, स्वर्ग-नरक, पुनर्जन्म के विषय में शंका कुशंका होंगी । (सही - ग़लत )

( ढोंगी धर्मगुरु , नकली तांत्रिक बाबाओं का प्रभाव?)

१६. हर एक इन्सान कवि बनकर कविता करने लगेगा । (सही - ग़लत )

(ब्लॉग जगत से कविता की चोरी -कॉपी-पेस्ट प्रवृत्ति?)

१७. युवा  पुत्र - पुत्रवधु  और  संतान, अपने बुज़ुर्ग माता-पिता की सेवा नहीं करेंगे । (सही - ग़लत )

( ऑल्ड एज होम्स- वृद्धाश्रम की बढ़ती संख्या?)

१८. पति-पत्नी एक दूसरे के संबंध में बंधे होने के बावजूद अन्य के साथ व्यभिचार करेंगे । (सही -ग़लत )

( थ्री-फोर-फ़ाइव स्टार  आलीशान हॉटेल्स में पनपता नकली प्यार?)

१९. करीब-करीब सारे लोग किसी न किसी बीमारी से पीड़ित होंगे । कोई निरोगी नहीं रहेगा । (सही - ग़लत )

( एईड्स जैसे नये-नये असाध्य रोग, अद्यतन हॉस्पिटल्स की भरमार?)

२०. कलयुग के लोग धर्मशील कम, मगर विचारशील ज्यादा होंगे । ( सही - ग़लत )

( विचार वायु-टेन्शन अति बढ़ने से ब्लडप्रेशर-हार्ट ऍटेक में बढ़ोतरी ?)

२१. हर कोई अपने आप को सर्वज्ञ पंडित मान कर, सिर्फ प्रत्यक्ष को ही प्रमाण मानेंगे । (सही - ग़लत)

( हर क्षेत्र में वाद-विवाद का बढ़ता चलन?)

२२. शिक्षा जगत में व्याप्त मलिनता के कारण, ज्ञान और विद्या का नाश होगा । ( सही - ग़लत )

( पढ़ने-पढ़ाने वालों की पढ़ाई के क्षेत्र में उदासीनता और सच्चे ज्ञान का ह्रास ?)

२३. महायुद्ध, घोंघाट, भूकंप, अतिवृष्टि जैसे महा भय पैदा होंगे । (सही - ग़लत )

( पृथ्वी का विनाश होने का मंडराता ख़तरा?)

२४. राजा अपने कागभगोड़ा बुद्धिवालों का कहा मानेगा,राक्षस साधु होने का दंभ करेंगे । (सही - ग़लत)

( सरकार में सताधारीओं की चाँपलुसी और चमचागीरी?)

२५. छल-कपट, अपहरण की वारदातें बढ़ेगी । ( सही - ग़लत )

(कुछ कहने की जरुरत है?)

२६. भाई-भाई में एकता का भाव कम हो जाएगा ।( सही - ग़लत )

(भाई-भाई की जान का दुश्मन?)

२७. लोग निर्धनता से परेशान हो कर देश छोड़कर पर-देश जा बसें ।( सही - ग़लत )

(ऑस्ट्रेलिया में अपनी पिटाई करवाने को?)

२८. हिमालय, समुद्र के किनारे और जंगलों में हिंसक म्लेच्छ, आम अहिंसक प्रजा के साथ बसेंगें ।( सही - ग़लत )

(समुद्री लूटेरे-आतंकी-नक्सलवादी?)

२९. पके-पकाए अन्न का व्यापार होगा ।( सही - ग़लत )

(फूड पाउच-फास्टफूड-होम डिलीवरी सुविधा?)

३०. रजोगुण से  विषय-वासना भोग कर लोग आयु का क्षय करेंगे ।( सही - ग़लत )

( देशी-विदेशी वायग्रा ओर सेक्स क्लिनिक में बढ़ौतरी?)

३१. शिष्य गुरु को अपमानित करेंगे ।( सही - ग़लत )

( पाठशाला एवं कॉलेज में प्राध्यापकों साथ बदसलूकी?)

३२. लोग उपकार का बदला अपकार से देंगे ।( सही - ग़लत )

(एक दूसरे से दगा-बेवफ़ाई?)

३३. लोग शरीर में रोग की पीड़ा सहन न क पाने की वजह से वैराग्य धारण करेंगे ।( सही - ग़लत )

( घर त्याग-आत्महत्या और मर्सी किलिंग की वारदातें?)

३४. राज्यों का कार्यभार अति बढ़ेगा ।( सही - ग़लत )

(जम्बो मंत्री मंडल का गठन ?)

३५. लोग अपना ऋण अदा करने में आनाकानी करेंगें ।( सही - ग़लत )

(बैंक स्केम और डिफोल्टर्स?)

३६. लोग शुद्ध दूध के लिए इधर उधर वृथा भटकेंगे ।( सही - ग़लत )

( मिलावटी  हानिकारक  दूध  और  दूध की बनावट?)

३७. शिल्प,हुनर,कला का व्याप बढ़ेगा ।( सही - ग़लत )

(टी.वी.चैनल्स - मल्टिप्लेक्स थिएटर और फ़िल्मो की भरमार?)

३८. लक्ष्मी का वर्चस्व बढ़ेगा-सज्जन की जगह दुर्जन की पूजा होगी ।( सही - ग़लत )

( भ्रष्ट और बेईमान धनवानों की बोलबाला ?)

३९. धर्म भ्रष्ट-आचार भ्रष्ट- और धर्म परिवर्तन करानेवालों की तादाद बढ़ेगी ।( सही - ग़लत )

( लोभ-लालच और प्रलोभन दे कर, या फिर ज़बरदस्ती धर्म परिवर्तन?)

 ४०. लोगों का आयु अल्प होगा और तन दुर्बल ।( सही - ग़लत )

( अनेक रोगों से ग्रस्त शरीर और आयु काल में कटौती ।)


प्रिय मित्रों, जिस तरह, चंद्र एक ही होने के बावजूद उसकी कला कम-ज्यादा होती है , उसी तरह, काल खंड एक ही होने के बावजूद, उसके गुण-दोष कम-ज्यादा होने पर उसे सत्य-त्रेता-द्वापर और कलयुग जैसे अलग-अलग नाम से पहचाना जाता है । हर एक युग में सब कुछ परिवर्तनशील होता है । यह संसार भी नाश और उत्पत्ति द्वारा बार-बार परिवर्तन होने के कारण किसी एक स्थिति में स्थिर नहीं हो सकता ।

हम तो बस ईश्वर से प्रार्थना कर सकते हैं की, हे प्रभु अब सतयुग आने में कितने दिन (!!) बाकी है?

मार्कण्ड दवे. दिनांक - १९-०३-२०११.

2 comments:

  1. सभी प्रश्नों का एक ही उत्तर है-"सही"। कलियुग में एक फिल्मी गीत लिखा गया है "रामचन्द कह गये सिया से ...." जिसने भी लिखा है यथार्थ है। सृजन की पराकाष्ठा है विनाश, और विनाश में बीज होते हैं नव सृजन के....तथापि यह सोचाकर अकर्मण्य या हताश होने की आवश्यकता नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह पोस्‍ट तो लगता है नोस्‍ट्रेड्मस ने पढ़ मारी होगी अपनी भवि‍क्ष्‍यवाणि‍यां लि‍खने से पहले

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top