आप सभी को यह सूचित करते हुए अपार हर्ष की अनुभूति हो रही है , कि दशक के ब्लॉगर और दशक के ब्लॉग हेतु कराये गए मत सर्वेक्षण का कार्य विगत 30 मई को सफलतापूर्वक पूरा हो गया है, किन्तु जबतक परिकल्पना सम्मान के शेष सम्मान धारकों की चयन प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती तबतक इस सूची को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता . हम समग्र सूची को शीघ्र सार्वजनिक करेंगे किन्तु उससे पहले एक महत्वपूर्ण सूचना आप सभी के लिए :

“वटवृक्ष” का अगस्त-2012 अंक 
(हिंदी ब्लॉगिंग  के एक दशक पर एकाग्र )

() जिसमें उद्भव से अबतक के यानि इस दशक के 500 महत्वपूर्ण ब्लॉगर का चयन कर हिन्दी  ब्लॉगिंग में उनके योगदान को रेखांकित किया जा रहा है 

() उनकी लेखन शैली और लेखन की विशिष्टताओं का उल्लेख करते हुये व्यापक चर्चा की जा रही है 

() इसके अतिरिक्त 100 ऐसे ब्लॉगर का चयन कर उनका उल्लेख किया जा रहा है जो हिन्दी ब्लॉगजगत को साहित्यिक सामग्रियों से परिपूर्ण करने की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं ।

() साथ ही 500 उदीयमान ब्लॉगरों का चयन करते हुये उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों की समीक्षा भी की जा रही है।

इस विशेषांक का लोकार्पण अगस्त महीने में होने वाले भव्य परिकल्पना समारोह के दौरान होगा और इस अवसर पर 51 विशिष्ट ब्लॉगर “परिकल्पना सम्मान” से सम्मानित किए जाएँगे ।

आप सिर्फ इतना करें : अपने और अपने ब्लॉग की विशेषताओं/ ब्लॉग लिंक के साथ-साथ ब्लॉग शुरू करने की तारीख तथा उपलब्धियों/ सम्मानों/पुरस्कारों का उल्लेख 250 शब्दों में करते हुए निम्न ई मेल आई डी पर 15 जून-2012 तक अवश्य भेज दें । उसके बाद भेजी गयी प्रविष्टियों पर विचार नहीं किए जाएँगे । 

केवल इसी ई मेल आई डी पर ई मेल करें : parikalpanaa@gmail.com

38 comments:

  1. बहुत बड़ा काम है यह ...सराहनीय कार्य !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ये तो ब्‍लॉगिंग के लि‍ए खास बात है

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी ब्लोगिंग पर केन्द्रित वटवृक्ष ………वाह ! अद्भुत रंग होगा ………सराहनीय प्रयास है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके इस प्रयास की सफलता के लिए अनंत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप हिंदी ब्लोगिंग में हमारे लिए महाप्राण से कम नहीं, आपके द्वारा हिंदी ब्लोगिंग में किये जा रहे अवदान को आने वाली पीढ़ी कौतुहल की तरह देखेगी और सोचेगी कि तमाम विरोधों के वाबजूद मौन होकर कर्त्तव्य पथ पर अडिग..... क्या सचमुच ऐसा कोई व्यक्ति हो सकता है ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाकई प्रशंसनीय कार्य है यह आपका, आपको नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  7. Aap ye sanklan kar ke aane waali peedi ke liye ek dastavez taiyaar kar rahe hain ... jo shayad aapki mehan ka nateeja hai ... aapke prayaas ko naman hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्‍छा प्रयास पर ...

    अपने मुंह से अपनी तारीफ....
    ये तो अपने मुंह मियां मिटठू बनने वाली बात होगी.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. अतुल जी,
    इसमें मियाँ मिठ्ठू बनने की क्या बात है ? आप अपने बारे में मुझसे बेहतर कह सकते हैं ...इसलिए आपसे माँगा जा रहा है, प्रमाणिकता की कसौटी पर कसने का काम संपादक मंडल का होगा, की क्या प्रस्तुत किया जाए और क्या नहीं किया जाए ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. विशिष्ट आयोजन -विवरण भेजता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रशंसनीय कार्य है यह आपका:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका यह बहुत ही बढ़िया उल्लेखनीय और सराहनीय कदम है. जिसकी जितनी प्रशंसा की जाय वह बहुत कम होगी..
    हार्दिक शुभकामनाओं सहित सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ अपने पसंदीदा ब्लोगर्स का नाम,उनके ब्लॉग का यू आर एल और उस ब्लॉगर के लेखन की पाँच विशेषताओं तथा उनके द्वारा लिखे कोई दो उत्कृष्ट पोस्ट का लिंक के साथ उल्लेख करते हुये मुझे 31 मई-2012 तक अवश्य भेज दें ।
    @ अपने और अपने ब्लॉग की विशेषताओं/ ब्लॉग लिंक के साथ-साथ ब्लॉग शुरू करने की तारीख तथा उपलब्धियों/ सम्मानों/पुरस्कारों का उल्लेख 250 शब्दों में करते हुए निम्न ई मेल आई डी पर 15 जून-2012 तक अवश्य भेज दें ।
    आदरणीय रविन्द्र प्रभात जी आपका यह प्रयास निश्चित रूप से स्वागत योग्य है और इससे जो लोग प्रत्यक्ष रूप से ब्लॉगिंग के साथ नहीं जुड़े हैं उन्हें ब्लॉगस की महता और रचनात्मकता का भी आभास होगा ....लेकिन आपने दो तरह के विकल्प सामने रखें हैं ....लेकिन पहले वाला सही प्रतीत होता है , फिर भी अगर दुसरे वाले को भी क्रियात्मक रूप से लागू करते हैं तो कहीं न कहीं पर अनिश्चितता बनी रहेगी ....इसलिए अगर इन अंक को एक ऐतिहासिक अंक बनाना चाहते हैं तो कुछ बिन्दुओं पर विचार किया जा सकता है : -
    १ . ब्लॉगस के कंटेंट पर विचार किया जाये और फिर उन सबमें से उत्कृष्ट और प्रमाणिक लेखन करने वाले ब्लॉगस का चुनाव किया जाये . क्योँकि कंटेंट के आधार पर अगर हम ब्लॉग का चुनाव करते हैं तो इससे प्रमाणिकता भी सामने आयेगी और यह भी मूल्याङ्कन हो सकेगा कि अभी तक हिंदी ब्लॉगिंग का कौन सा पक्ष ज्यादा सशक्त है और किस पर और अधिक ध्यान देने की आवशयकता है . हम ब्लॉगर को न देखें , ब्लॉगस को देखें रचनाकार की महता रचना से होती है यही बात ध्यान में रखीं जाये .
    2 विधा आधारित ब्लॉगस का चुनाव किया जा सकता है, लेकिन यह एक कठिन काम है ( कविता , कहानी , निबंध आदि तो यदा कदा पढने को मिल जाते हैं , संस्मरण और रिपोर्ताज भी ब्लॉगस पर रचे जा रहे हैं लेकिन देखना यह है कि यहाँ पर उनकी प्रवृति क्या है ...भाषा और शैली किस तरह से प्रभाव शाली है .
    3 संख्या कोई मायने नहीं रखती सृजन मायने रखता है आप बेशक कम ब्लॉगस का चुनाव कर पायें इससे एक स्वस्थ परम्परा का विकास होगा और निश्चित रूप से ऐसा कर पाने में हम सक्षम होते हैं तो आने वाले समय में ऐसे विशेषांकों में शामिल होने के लिए ब्लॉगर अपने लेखन को उत्कृष्ट बनाने का प्रयास करेंगे .
    4 अब ब्लॉगर खुद के ब्लॉग का यू . आर . अल . और प्रारंभ करने की तारीख बताये इससे बेहतर है कि आप विशेषज्ञता रखने वाले कुछ ब्लॉगर्स से विभिन्न सन्दर्भों पर आलेख आमंत्रित करें लेकिन ऐसे में लेख लिखने वाले ब्लॉगर निष्पक्षता से मूल्याङ्कन करने में सक्षम हों और उनके किसी स्थापना पर किसी को कोई संदेह होने की सम्भावना न हो .
    5 आप एक दशक का मूल्याङ्कन करने जा रहे हैं , यह माना जा सकता है लेकिन यह बात भी हमें बिना किसी हिचक के स्वीकार करनी होगी कि हिंदी में 2007 तक गिने चुने लोग ही ब्लॉगिंग से जुड़े हुए थे या यह भी कह सकते हैं कि तकनीकी रूप से सक्षम लोग ही इस तरह कि गतिविधियों में सक्षम थे ....लेकिन 2007 के बाद ब्लॉगस और ब्लॉगर्स कि संख्या में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है ...एक बात ध्यान रखनी होगी कि 2011 के बाद ब्लॉगिंग के प्रति ब्लॉगर्स का रुझान भी कम हुआ है , जो लोग पहले काफी सक्रिय रहते थे अब उनके पोस्ट्स भी यदा कदा ही देखने को मिलते हैं .
    टिप्पणी बही लम्बी हो गयी ...इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ....बातें बहुत हैं ....लेकिन ....?????

    उत्तर देंहटाएं
  14. केवल राम जी,
    पहले वाली अपील की अवधि समाप्त हो चुकी है और जो मुझे जानकारी संकलित करनी थी मैं कर चुका हूँ, ये दूसरी अपील उन लोगों के लिए है जो अच्छा तो लिखते हैं पर उनकी कहीं भी चर्चा नहीं होती ....उन प्रतिभाओं को सामने लाने के लिए यह नया विकल्प दिया गया है ....वटवृक्ष प्रकाशन की प्रक्रिया में है, इसलिए जो अभी तक शामिल न हो पाए हो तो १५ जून के पहले भेजकर शामिल हो जाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  15. यह भी सही है .....! शुक्रिया आपका

    उत्तर देंहटाएं
  16. गुरुदेव,
    आपकी और आपकी यशस्वी टीम की जय हो, वाकई कितना मेहनत करते हैं आप लोग !
    यह आयोजन निश्चय ही कई मायनों में विशिस्ट हो, यही शुभकामना है !

    उत्तर देंहटाएं
  17. हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस महा अभियान के लिए आपको व आपकी टीम के सदस्यों को मेरी हार्दिक शुभकामनाएं ! आप अपने इस प्रयास में सफल हों यही मंगलकामना है !

    उत्तर देंहटाएं
  19. शुभकामनाएं!
    प्रशंसनीय काम!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. सराहनीय, हिन्दी ब्लॉगिंग पर केन्द्रित इस विशेषांक की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  21. रविन्द्र जी,
    बहुत मुश्किल काम दे दिया है आप ने। स्वयं के बारे में लिखना दुनिया का सब से मुश्किल काम है।
    बहुत से लोग इसे बहुत अच्छे तरीके से कर लेते हैं, खास तौर पर प्रोफेशनल्स। वे यदि ऐसा न करें तो उन के साथ बहुत बुरा हो।
    मैं यह काम कभी नहीं कर पाया। कोशिश करता हूँ। लेकिन शायद 15 जून तक न कर पाऊँ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ढेरों शुभकामनाएँ.....

    कभी कोई सम्मान मिले तो हम अपना परिचय भी भेज दें
    :-)

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपनी प्रशंसा करने का किसी ने मौक़ा तो दिया .... आभार आपका .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  24. अच्छा प्रयास । शुभेच्छाएं हमारी भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. इन्तजार रहेगा इस अंक का ..शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
  26. आप बहुत सराहनीय कार्य कर रही हैंमेरी ओर से शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  27. यह बड़ा काम हो रहा है. इसकी जितनी भी तारीफ की जाये, कम ही है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top