ब्लॉग के समकक्ष बड़ी तेजी से उभरा फेसबुक - अभिव्यक्तियों का इंस्टैंट रूप ! इंस्टैंट कॉफ़ी की तरह - ब्रह्मुहूर्त से रात गए तक यह फेसबुक का शहर सोता नहीं, एक LIKE का कमाल लिखने की,कुछ कर दिखाने की प्रेरणा देता है  . ब्लॉग को भी हम आसानी से अपने मित्रों तक पहुंचा लेते हैं  .... 
आईये - इस शहर से तीन एहसास मैं समेट लाई हूँ - आपके लिए 

"नि:शब्द " http://facebook.com/kishor.khorendra
(किशोर कुमार खोरेन्द्र)


किसी शब्द के माथे पर
बिंदु सी बिंदी लगाना
My Photoभूल जाता हूँ
तो बिंदु नाराज हो जाती हैं
अक्षर कहते हैं हमें जोड़ो
शब्द कहते हैं हमें बोलो
वाक्य कहते हैं हमें पढ़ों
छंद कहते है हमें गाओ
शरीर रूपी बोगी में
बैठकर मेरा एकाकी मन
अपनी आत्मकथा लिख रहा हैं
जो कभी खत्म नहीं होगी
इस कथा में
न अल्प विराम हैं न पूर्ण विराम हैं
बिना पटरियों के ही
मानों ख्यालों की रेल
अबाध गति से दौड़ रही हैं
लेकिन
तुम्हारी मुस्कराहट को
तुम्हारी आंखों में समाये
मौन को
मेरा मन नहीं लिख पाता हैं
सौभग्य की लहरों के आँचल की तरह
तुम मेरे करीब आकर लौट जाती हो
जाते हुए आँचल के छोर को मैं
कहाँ पकड़ पाता हूँ
असहाय सा बेबस सा
निर्मम वक्त के समक्ष
निरुत्तर हो जाता हूँ
अपने मन से भी ऊपर
परे
उसका नियंत्रक
"मैं "जो हूँ
इसलिए मेरी तरह
वे सारे अक्षर
वे सभी शब्द
वे लंबे वाक्य
वे मधुर छंद
समुद्र की तरह हाहाकार करता
हुआ सा मेरा एकाकी मन
सब चुप हो जाते हैं
नि:शब्द हो जाते हैं
स्तब्ध हो जाते हैं



कविता : मरे हुए जूतों की शक्लें - संजय शेफर्ड  http://facebook.com/Sanjaishepherd
-------------------------------------------------
आओ आज बीनते हैं 
रक्त के उन टुकड़ों को जो अनायास गिरे 
कभी सड़क, कभी चौराहों पर 
कभी अपने ही घर के चौकट के नीचे 
* * *
Sanjay Shepherdआओ आज बीनते हैं 
उन घावों को जो अपने थे और पराये भी 
जो स्वय उपजे, जिन्हें हम उपजाए भी 
कभी तलवार तो कभी खंजर के नीचे 
* * *
आओ आज बीनते हैं 
मांस के उन टुकड़ों को 
जो बिखरे और बिखराए गए 
आओ ढूंढे खोई हुई लाशों को 
निहारें मरे हुए जूतों की शक्लें 
* * *
कोई बात नहीं, कोई फ़रियाद नहीं 
हम मरने वालों में थे या मरने वालों में 
हम सबको कुछ भी याद नहीं 
बस मारना था, मारते रहें 
बस काटना था काटते रहे 
* * *
उनको भी काटे खुद भी कटे 
बहन, बेटियो की कब्रे पाटे 
साम्रदायिकता की वह आंधी थी 
जो मारी काटी चली गई 
* * *
कुछ याद है तो बस खोई शक्लें 
कुछ अपने कुछ गैर, कुछ मिलकर बिछुड़े 
चौका चूल्हा उदास पड़ा है 
घर में छाएं हैं कब्रों के से सन्नाटे ?
जीवन को वीरान किया तो क्या 
आओ अब हम सब मिलकर मौत को बांटे।

आओ हमारे साथ  rekha.chamoli.3@facebook.com
(-रेखा चमोली — )

हम पहाड़ की महिलाएँ हैं
पहाड़ की ही तरह मजबूत और नाजुक
Rekha Chamoliहम नदियां है
नसें हैं हम इस धरती की

हम हरियाली हैं जंगल है
चरागाह हैं हम
हम ध्वनियाँ हैं
हमने थामा है पहाड़ को
अपनी हथेलियों पर
अपनी पीठ पर ढोया है इसे
पीढ़ी दर पीढ़ी 
इसके सीने को चीरकर
निकाली हैं ठंडी ठंडी धारायें
हमारे कदमों की थाप को पहचानता है ये
तभी तो रास्ता दे देता है अपने सीने पर
हमने चेहरे की रौनक
बिछाई है इसके खेतों में
हमीं से बचे है लोक गित
पढ़ी लिखी नहीं तो क्या
संस्कृति की वाहक हैं हम

ओ कवि, मत लिखो हम पर
कोई प्रेम कविता, खुदेड़ गीत
मैतियों को याद करती चिट्ठियाँ
ये सब सुलगती हुई लकड़ियों की तरह
धीमे धीमे जलाती हैं हमारे हाथों में थमाओ कलमें
पकड़ाओ मशालें
आओ हमारे साथ 
हम बनेंगे क्रान्ति की वाहक
हमारी ओर दया से नहीं
बराबरी सम्मान से देखो

परिकल्पना ब्लॉगोत्सव में आज बस इतना ही, मिलती हूँ कल फिर सुबह 10 बजे परिकल्पना पर। 

8 comments:

  1. दो को जानती हूँ …।
    तीसरी मेरी अनजानी थी ....
    मिलवाने के लिए शुक्रिया .....।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचनाएं.....रेखा जी को पहली बार पढ़ा....
    शुभकामनाएं.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक से बढकर एक खज़ाना बटोरा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. naye log ka parichay dekhne ko milega is shirinkhala mein ............. shubhkamnaaye aap sabko FB ka sitara ban ne ka

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह दी ! एक से बढ़कर एक ....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  6. नये-पुराने रचनाकारों से मुलाक़ात .....आनंद आ रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बहुत सुंदर ये भी एक अलग अंदाज है !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर रचनायें चुनीं हैं आपने ..वाकई मज़ा आ गया

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top