एक अरसा बीत गया शोमैन राजकपूर साहब का इंतकाल हुये,  किन्तु  ''मेरा नाम जोकर ''  में  फिल्माया  गया यह अमर वाक्य तब भी उतना ही प्रासंगिक था, जितना आज है। उन्होने कहा था कि - '' दुनिया एक रंगमंच है और हम उसके किरदार।''

रंगमंच का जोकर हो या काव्यमंच का हास्यकवि या फिर लाफ़्टर शो का हास्य अभिनेता, हँसना-हँसाना उसका काम, उसकी हुनर और उसकी फितरत होती है, मगर अपने अंतर में तमाम दर्द और तकलीफ़ों को समेटे जब वह विदा होता है तब महसूस होती है हास्य के भीतर छुपी व्यथा। फिर तो शेष रह जाती हैं दर्द की, व्यथा की, पीड़ा की और संवेदना की स्मृतियाँ ...।
कौन जानता था कि चिट्ठाकारी में अपने ख़ास अंदाज़ और स्पस्टवादिता के लिए मशहूर हास्य कवि अलवेला खत्री अपने फक्कड़ और अलवेले अंदाज़ में हमसबको इतना जल्दी अलविदा कह जाएँगे मुसकुराते हुये, कभी सोचा नहीं था ।

विचारधारा में टकराहट से कोसों दूर अलवेला जबभी मेरे आसपास होते तो  केवल  मेरे  मित्र की भूमिका में होते थे। जबभी  पास होते पूरी अंतरंगता के साथ बात करते हुये बीता देते  पूरा का पूरा दिन, पूरी की पूरी रात। कानपुर, कोलकाता और मुंबई जैसे लगभग आधे दर्जन शहरों में अलवेला के साथ बिताए कवि सम्मेलनों और मुशायरों की रातें  और रह-रहकर गुदगुदाती  हुई उनकी बातें आज भी स्मृतियों में ताज़ा है। उनका अंदाज़ इतना अलवेला था कि जब भी लखनऊ आते मेरे बच्चों के लिए पूरे महीने भर की हास्य सामग्रियाँ उड़ेल कर चले जाते।

4 मई 2010 को जब वे लखनऊ आए तो मैंने लखनऊ ब्लॉगर असोसियेशन के तत्वावधान में उनके सम्मान का कार्यक्रम रखा था, उस कार्यक्रम में श्रीमती सुशीला पुरी, श्रीमती उषा राय, श्रीमती अनीता श्रीवास्तव,श्री मती अलका सर्बत मिश्रा,श्री अमित कुमार ओम, श्रीमती मीनू खरे, श्री मो० शुएब, श्री हेमंत, श्री विनय प्रजापति और श्री जाकिर अली रजनीश आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होने कहा था, कि "साहित्य अकादमी की तरह ब्लोंगिंग अकादमियां भी बननी चाहियें , जिस प्रकार देहात तथा अहिन्दी भाषी क्षेत्रों से प्रकाशित होने वाले हिन्दी प्रकाशनों को विशेष मदद मिलती है उसी तर्ज़ पर दूर दराज़ तथा अहिन्दी भाषी क्षेत्रों के ब्लॉगर्स को विशेष सहायता मिलनी ही चाहिए।"

हिंदी ब्लॉगिंग में कूड़े-कचरे को लेकर भी वे हमेशा आश्वस्त दिखते थे। ठहाका लगाते हुये कहते थे कि बाढ़ के पानी के साथ कचरा अपने आप बाहर निकल जाएगा। अलवेला कहते थे कि "मैंने जब ब्लॉग लिखना शुरू किया उस समय परिस्थितियाँ अच्छी थीं और आज की परिस्थितियाँ उससे भी अच्छी है और आगे बहुत अच्छी होगी यह मेरा विश्वास है।"

अपने सम्मान समारोह में खुलकर बोले थे वे ".......खूब लिखें, खूब पढ़ें , खूब विचारों का आदान-प्रदान करें . टिप्पणियों पर ज्यादा ध्यान न दें क्योंकि टिप्पणियाँ सफलता अथवा असफलता की कसौटी नहीं होती . केवल सृजन पर ध्यान दें. वरिष्ठ चिट्ठाकारों का सम्मान करें . उनके विचारों और अनुभवों को आत्मसात करें ......हिंदी के उन्नयन की दिशा में कार्य करें और किसी के लिए भी मन में दुर्भावना न पालें . यानी किसी से भी आपकी मतभिन्नता हो सकती है किन्तु कभी भी मन भिन्नता की स्थिति न आने दें ...मेरी ढेर सारी शुभकामनाएं !....आदि, आदि।

जाते-जाते उन्होने भाव विभोर मुद्रा में सिर्फ इतना कहा कि शायद ऐसा वृहद सम्मान मुझे शायद ही मिले, जब भी मौका मिलेगा लखनऊ आना नहीं भूलूँगा। कौन जानता था कि वे फिर लखनऊ नहीं आने वाले। परिकल्पना समूह  की ओर से मैं उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।  

17 comments:

  1. मेरा एक ही बार अलबेला भाई साहब से मिलना हुआ था जब वो मैनपुरी कविता पाठ करने आए थे ... पर फोन पर कई बार बात हुई थी |

    बेहद खुश मिजाज और बड़े दिल वाले अलबेले बड़े भाई को मेरा प्रणाम और विनम्र श्रद्धांजलि |

    ॐ शांति शांति शांति |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन भंडारा - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

      हटाएं
  2. बस यादें रह जाती हैं इस नश्वर संसार में ...
    विनम्र श्रद्धाँजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरा तो एक बार ही मिलना हो सका था ..
    बस यादें साथ रहती हैं ...
    हार्दिक श्रद्धांजलि !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अकेले नहीं गए हैं अलबेला
    अपने हिस्‍से के गम निपटा गए हैंं
    अच्‍छी तरह चिपटा कर गए हैं
    जाना मुझे थे कतार तोड़ कर
    दौड़ गए हैं अलबेला।

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्मृति शेष खत्री जी सच में बहुत याद आएँगे
    और आते रहेंगे
    अश्रुपूरित श्रद्धांजली

    उत्तर देंहटाएं
  6. यादें बची हैं बस.....
    उनकी कमी हमेशा रहेगी

    उत्तर देंहटाएं
  7. उनकी स्मृतियाँ सदा साथ रहेंगी!

    उत्तर देंहटाएं
  8. विनम्र श्रधांजलि ... एक जिंदादिल इंसान को ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. खत्री जी को ह्रदय से श्रद्धाँजलि . जो ज्यादा हँसाते हैं वो गम भी दे जाते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अलबेला जी को विनम्र श्रद्धांजलि!
    .
    साहित्यकर्म और ख़ासकर हिन्दी क्षेत्र में, अर्थाभाव की पराकाष्ठा तक पहुँचा देता है (कुछ-एक मामलों को छोड़ कर***)
    फक्कड़ अलबेला जी को अंत काल में ऐसा क्यों झेलना पड़ा; ये हमारी चिंता और हमारे सोचने का विषय है !!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top