जैसा कि आप सभी को विदित है, कि विगत चार वर्षों से परिकल्पना (संस्था) और परिकल्पना समय (मासिक पत्रिका) के संयुक्त तत्वावधान में प्रत्येक वर्ष 51 ब्लॉगर्स को परिकल्पना सम्मान प्रदान किया जाता रहा है, इस वर्ष से इस सम्मान प्रक्रिया में आंशिक संशोधन किया जा रहा है। संशोधन के उपरांत ब्लॉगोत्सव में शामिल प्रतिभागियों में से विषयानुसार चयनित सभी सम्मानधारक  कों  "परिकल्पना सम्मान" के अंतर्गत 5000/- की धनराशि प्रदान की जाएगी। 

उल्लेखनीय है, कि इस वर्ष से एक नई पुरस्कार योजना की शुरुआत की जा रही है, जिसके अंतर्गत सार्क  देशों में से चयनित किसी भी देश के चार ब्लॉगर अथवा साहित्यकार को  "परिकल्पना सार्क शिखर सम्मान" प्रदान किया जाएगा, जिसके अंतर्गत  प्रत्येक प्रतिभागियों को 25000/- की धनराशि प्रदान की जाएगी। 

"परिकल्पना सार्क  शिखर सम्मान" हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित:

नियम एवं शर्तें: 

* सम्मानधारक के लिए ब्लॉगर, पत्रकार  अथवा साहित्यकार  होना अनिवार्य है। 

* विगत एक दशक में ब्लॉग, सामाजिक मीडिया, जन संचार, यात्रा वृतांत, कविता, कहानी अथवा उपन्यास से      संबंधित सम्मानधारकों की  न्यूनतम एक पुस्तक अवश्य प्रकाशित हो। 

* सम्मानधारक के लिए दक्षिण एशिया के किसी भी देश का नागरिक होना अनिवार्य है। 

* सम्मानधारक की आयु 30 वर्ष से कम न हो। 

* सम्मान हेतु किसी दो उल्लेखनीय तथा विशिष्ट व्यक्तियों की अनुशंसा प्राप्त हो। यदि सम्मान धारक स्वयं      में अत्यंत विशिष्ट और उल्लेखनीय व्यक्तियों में से एक है, तो अनुशंसा की आवश्यकता नही है। 

प्रक्रिया: इस सम्मान हेतु इच्छुक प्रतिभागी स्वयं अपना आवेदन दे सकते हैं, किन्तु आवश्यक समझे जाने पर दो उल्लेखनीय तथा विशिष्ट व्यक्तियों की अनुशंसा आवश्यक होगी। 

प्रतिभागी कृपया निम्न जनकारियों के साथ विषय में "परिकल्पना सार्क शिखर सम्मान हेतु प्रविष्टि" लिखते हुये निम्न विवरण के साथ parikalpnaa00@gmail.com पर मेल करें। 

*नाम:
*पिता/पति का नाम 
*पता: 
* जन्म तिथि: 
*प्रकाशित पुस्तकें: 
*प्राप्त सम्मान: 
*ब्लॉग अथवा जालस्थल का पता: 
* ई मेल आई डी :
* आपको यह सम्मान क्यों दिया जाये? 
(कम से कम 100 शब्दों में अपनी बात रखें) 


अंतिम तिथि: 31 अक्तूबर 2014

ध्यान दें: समस्त सम्मानधारकों को आगामी 15 से 18 जनवरी 2015 में थिम्फू (भूटान) में आयोजित "चतुर्थ अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन सह परिकल्पना सम्मान समारोह" में ये विशिष्ट सम्मान प्रदान किए जाएंगे। 

20 comments:

  1. मेरे विचार से कोई भी विशिष्ट साहित्यकार स्वयं को नामांकित नहीं करेगा और ना ही किसी से कहेगा … इस प्रक्रिया में उनको शामिल करना चाहिए जो अपनी पसंद से स्वयं किसी का नाम दें …

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ आपने सही कहा, लेकिन आज पहले दिन ही 30 प्रविष्टियाँ प्राप्त हो चुकी है।

      हटाएं
    2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. इस नेक कार्य हेतु हार्दिक बधाई और शुभकामनायें मैने पहले भी टिप्पणी की थी पता नहीं कहाँ गयी :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस सुन्दर परिकल्पना के लिए बधाई, इतनी सारी प्रविष्टिया आ गयी, कमाल है? मतलब परिकल्पना सम्मान की अपनी प्रतिष्ठा है . जिसका चयन होगा, वो अच्छा ही होगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रभा जी की बात में दम है लेकिन दुःख यही है की लोग भयंकर सक्रिय हो जाते है, एक नहीं, दो-चार लोग खोज लाएंगे अनुशंसा के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  5. shaandaar prayaas, sfalataa ke liye hardik agrim shubhkamnaayen b-c

    उत्तर देंहटाएं
  6. रवीन्द्र जी, आपका प्रया स्तुत्य है। लेकिन लेखकों से ही नामांकन करवाना, जँचा नहीं। रश्मि जी से सहमत होते हुए कहना चाहूँगा कि दूसरों से नामांकन करवाए जाएँ, और लेखकों को पता न चले। इससे लेखकों का स्वाभीमान भी बचा रहेगा और वे पुरस्कृत भी होंगे.. क्यों ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमस्कार कुमुद जी, कोई जरूरी नही कि आप स्वयं अपना नामांकन दें । कोई संस्था या उल्लेखनीय व्यक्ति भी दूसरे को नामित कर सकते हैं। विगत कुछ वर्षों में जो घटनाएँ घटी है और लोग अपने को प्रस्तुत करने में पीछे नही रहे हैं। इसी को देखते हुये ऐसा किया गया है।

      हटाएं
  7. Ravindra ji Parikalpana ke liye badhai...Kumud ji ki baat se sahmat..hoon

    उत्तर देंहटाएं
  8. ye kaisa samman ! samman....inaam achchhe lgte hain. apna best dene ke liye motivate krte hain pr..... inaam ki ye prakriya mujhe kabhi achchhi nhi lgi.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर बार पिछले सम्मेलन से आगे कुछ और जुड़ जाता है, यही तो परिकल्पना की ख़ासियत बन गई है। शुभकामनाएँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कार्यक्रम की सफफलता के लिए अग्रिम हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक अच्छा प्रयास, सुभकामनाये और बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top